Biology in hindi: जीव विज्ञान की अदभुत दुनिया

क्या आप जीव विज्ञान (biology in hindi) के बारे में सब कुछ जानना चाहते है? यह लेख आपको वो सारी जानकारी देगा जो आपको चाहिए।

बायोलॉजी की वजह से आज कई ऐसी वस्तु संभव हो पाई है, जिसकी हम कल्पना भी नही कर सकते। फिर भले ही वो पर्यावरण को सुरक्षित रखना हो या सूक्ष्म जीवों से दवाइया बनाना।

तो चलिये इस विषय को संपूर्ण रूप से समझते है।

Biology in hindi, जीवविज्ञान क्या है

जीव विज्ञान क्या है – What is Biology in hindi

अगर एक लाइन में कहना हो की जीव विज्ञान क्या है (What is Biology in hindi) तो यह जीवित जीवो का वैज्ञानिक अध्ययन है।

जीव विज्ञान में जीवित जीवो (living organisms) का अभ्यास किया जाता है। पेड़ पौधों से लेकर प्राणी और इंसानो का भी।

पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत लगभग 3.7 अरब वर्ष पहले हुई थी। तब किसी तरह के सूक्ष्म जीव में से कई अलग अलग तरह की प्रजाती बनी।

और आज के समय में उन जीवो की इतनी प्रजाति बन चुकी है कि हम उसे गिन भी ना सके।

इन्ही सारे जीवो का जीवन और उनका पर्यावरण के साथ सबंध जीव विज्ञान में होता है।

कुछ सो साल पहले biology मूल विज्ञान के रूप में पहचाना जाता था, परंतु आज के समय में यह प्राकृतिक विज्ञान (natural science) के सबसे बड़े भाग में से एक है।

विज्ञान की शाखाएं, branches of science in hindi
शाखाएं

जीव विज्ञान का अर्थ – Biology meaning in hindi

Biology शब्द ग्रीक भाषा के दो शब्द bio जिसका अर्थ जीवन और logos जिसका अर्थ अभ्यास होता है, पर से लिया गया है।

हिंदी में जीव विज्ञान का अर्थ (Biology meaning in hindi) साफ़ दिखाई देता है। जीवो का विज्ञान।

जीव विज्ञान की परिभाषा – Biology definition in hindi

जीव विज्ञान की परिभाषा (Biology definition) इस तरह है।

जीव विज्ञान मे जीवित जीवों की संरचना, कार्य, वृद्धि, उत्पत्ति, विकास और वितरण का अध्ययन किया जाता हैं।

सरल भाषा के कहु तो,

जिव की संरचना के स्तर
जिव कैसे कार्य करता है
उसके शरीर में हो रही वृद्धि
उस जिव की उत्त्पत्ति
नए अंगों का विकास

और आखिर में उस जिव का पर्यावरण में क्या असर होता है इन सब का अध्ययन विज्ञान की इस शाखा में किया जाता है।

अब हम जीव विज्ञान के अंदर जाने वाले है और शुरुआत करेंगे इसके मुलभुत सिद्धांतो से।

जीव विज्ञान के सिद्धांत – Principles of Biology

जीव विज्ञान (Biology in hindi) कुछ मुलभुत सिद्धांतो पर आधारित है

इन सिद्धांतो (Principles) को जानना जरूरी है, क्योकि यह जीव विज्ञान के हर क्षेत्र में सबसे पहले आते है।

जिव विज्ञान के सिद्धांत, principles of Biology in hindi

अगर हम इन्हें जान लेते है तो बायोलॉजी को समझना  सरल हो जाएगा।

तो तैयार हो जाइए, एक अलग ही दुनिया में जाने के लिए।

कोष – cell theory

Cell theory के अनुसार हर जीवित जिव एक मुलभुत इकाई जिसे कोष कहा गया है उससे बने होते है।

कोष जीव विज्ञान का एक महत्वपूर्ण भाग है।

कोष हर जीव के अंदर मौजूद होते है। पेड़ पौधों से लेकर हम सब में।

लेकिन वो बहुत ही छोटे होते है, इनका आकार 1 से 100 माइक्रोमीटर तक का ही होता है।

कोष क्या है, cell in hindi

इसी वजह से इसे देखने के लिए माइक्रोस्कोप का उपयोग किया जाता है। सामान्य आँखों से देखना तो संभव ही नही है।

कोष दो तरह के होते है।

eukaryotic जिनके अंदर नाभिक होता है।
prokaryotic जिनके अंदर नाभिक नही होता है।

Types of cell in hindi, कोष के प्रकार

हमारे अंदर पहले वाला कोष होता है।

कोष की संरचना काफी जटिल होती है उसके अंदर कई तरह के भाग बने होते है।

हर कोष हमेशा एक प्रकिया से गुजरता रहता है, 9जिसे Cellular process कहते है। जिसके लिये उसे ऊर्जा की जरूरत होती है।

ऊर्जा का अर्थ होता है काम करने की क्षमता।

कोष को यह ऊर्जा metabolism द्रारा मिलती है।

यह एक तरह की रासायनिकी प्रक्रिया है जिसमे खोराक का ऊर्जा में रूपांतरण किया जाता है।

जब metabolism द्रारा कोष को ऊर्जा मिलती है, तब इस प्रक्रिया में भी ऊर्जा का उपयोग होता है।

Photosynthesis प्रक्रिया में प्रकाश ऊर्जा का रासायनिक ऊर्जा में रूपांतरण होता है।

यह प्रक्रिया पेड़ पौधों में होती है। जब सूर्य प्रकाश पौधों के पत्तो पर गिरता है।

यह रासायनिक ऊर्जा का उपयोग वह बाद में अपने कोष की प्रक्रिया के लिए करते है।

और अवशेष के रूप में ऑक्सिजन को हवा में मुक्त करते है, जो की पृथ्वी पर जीवन बनाये रखने के लिये जिम्मेदार है।

बायोलॉजी के अनुसार हमारा शरीर 100 खरब कोष से मिलकर बना हुआ है, जब की कुछ सूक्ष्म जीवों में सिर्फ एक ही कोष पाया जाता है।

अब बढ़ते है अगले सिद्धांत की और।

आनुवंशिकता – gene theory

Gene आनुवंशिकता की मुलभुत इकाई है।

gene theory हमे यह समझती है कि कैसे माता पिता के लक्षण संतानों को मिलते है।

कोष के केंद्र में रहे नाभिक में gene होते है। यह gene dna से मिलकर बने हुए होते है।

Dna in hindi, dna kya hai

जीव विज्ञान (biology in hindi) के अनुसार यह dna हर इंसान और प्राणी में अलग अलग होते है। कभी भी यह संभव ही नही है कि दो इंसानो के dna समान हो।

इस थियरी की माने तो हर जीवित जिव gene के द्रारा नियंत्रित होते है। gene कोष को यह कहते है कि उन्हें क्या करना है।

समस्थापन – Homeostasis

Homeostasis के मुताबिक हर जीवित जिव पर्यावरण (environment) के साथ स्थिरता बनाये रखता है, जिससे वो जीवित रह सके।

इस घटना में प्रकृति भी इस कार्य में उनकी मदद करती है।

क्या आप जानते है हमारे वायुमंडल में ऑक्सिजन की मात्रा 21% है।

हम प्राणी ऑक्सिजन लेते है और पौधे छोड़ते है। परंतु आश्चर्य की बात तो यह है कि ऑक्सिजन ली यह मात्रा हमेशा वायुमंडल में स्थिर ही रहती है।

विकास – evolution

Evolution के अनुसार हर जीवित जिव समय के साथ अपने अंदर लक्षण बदलता है जिससे वो पर्यावरण में अनुकूल रूप से रह सके।

कुछ जिव दुसरो की तुलना में ज्यादा जीन्स को बनाते है। इस वजह से कुछ पीढ़ी बाद उन प्रजाति के जीवो में बहुत बड़ा बदलाव देखने मिलता हैं।

जिव समय के साथ विकास करते है जो की प्राकृतिक होता है।

जीव विज्ञान की शाखाएं – Branches of Biology

जीव विज्ञान science के मुख्य भाग में से एक है। इसी वजह से यह एक विशाल शाखा है। साथ ही जीव विज्ञान के क्षेत्र का विस्तार बहुत बढ गया है।

उपरांत, यह हमारे सामान्य जीवन में भी बहुत फ़ैल चूका है। इसकी इतनी खोजे होने लगी है कि इसे एक शाखा में समझना बहुत जटिल है।

परिणाम स्वरूप, जीव विज्ञान (biology in hindi) को कई उपशाखाओं (Branches) में बांटा गया है।

तो चलिये जानते है सबसे पहली शाखा को।

परिस्थितिकी – ecology in hindi

बायोलॉजी की इस शाखा में जीवो और पर्यावरण के बिच रहे सबंध का अभ्यास किया जाता है।

कैसे पेड़ पौधे ओर हम इस पर्यावरण से जुड़े हुए है और किस तरह हम इस पर अपना प्रभाव डालते है।

Ecology in hindi, इकोलॉजी क्या है

ecology के अभ्यास से यह समझना आसान हो जाता है कि पृथ्वी से मिल रहे तत्वों और अपने आसपास रहे पर्यावरण का उपयोग कैसे करना है।

इसके साथ ही ecologist यह जानकारी प्राप्त करते है कि कैसे ज्यादा अनुकूल पर्यावरण की रचना की जा सके, ताकि जीवन ज्यादा बहेतर हो।

इसका एक उदाहरण आप यह देख सकते है।

1960 के दशक में वैज्ञानिको ने तालाब के खराब पानी की वजह का पता लगाया।

जो की पानी में मिले केमिकल थे।

यह जानकारी पानी को अब साफ़ रखने में मदद रूप होती है क्योकि हम जानते है कि केमिकल से पानी खराब होता है।

इसके उपरांत ecology से हम यह जान सकते है कि पर्यावरण का हम और दूसरे जीवो पर क्या असर होता है।

जैसे की मानव स्वास्थ्य पर असर होना।

प्राणी विज्ञान – zoology in hindi

Zoology में प्राणी और प्राणी जीवन का अभ्यास किया जाता हैं।

Zoology in hindi, प्राणी विज्ञान

इसके अलावा और भी बहुत कुछ है अभ्यास करने के लिए। जिनमे,

प्राणी का एकदूसरे से सबंध
प्राणी का पर्यावरण से सबंध
उनका जीवन और वृद्धि
प्राणी और पौधे का सबंध

यह सब शामिल है।

साथ ही जीव विज्ञान की इस शाखा में इसका भी अध्ययन होता है कि उनके कार्य क्या है और वो कैसे अपना विकास करते है।

Zoology की सबसे पहले शुरुआत Aristotle ने की थी। उसने ही सबसे पहले प्राणियो का अध्ययन करके उनकी संरचना और विकास को देखा था।

इसी वजह से उसे zoology का पिता भी कहा जाता है।

सूक्ष्मजीव विज्ञान – microbiology in hindi

सूक्ष्मजीव विज्ञान में सूक्ष्मजीवों का अध्ययन किया जाता हैं।

सूक्ष्म जीव हमारे जीवन का एक हिस्सा है। यह हमारे अंदर है, ऊपर है और बाहर हर तरफ है।

वो छोटे जीव जिन्हें हमारी आँखे देख नही सकती उन्हें सूक्ष्म जीव कहते है।

यह बेक्टेरिया और वायरस होते है। यह कई और भी प्रकार के होते है, जैसे की fungi और algae.

Micro organisms in hindi, सूक्ष्म जीव विज्ञान

सूक्ष्मजीवों का अभ्यास जरूरी है क्योकि यह जलवायु परिवर्तन, खाने का बिगड़ना, बीमारी इन सब के लिए जिम्मेदार होते है।

कोरोना बीमारी का कारण भी एक वायरस ही है।

लेकिन इससे विपरीत यह सूक्ष्म जीव काफी मददगार भी साबित हुए है।

जैसे की, दवाइया बनाना, ईंधन का निर्माण ओर प्रदूषण को साफ़ करने जैसी कई घटनाएं सिर्फ इन जीवो की वजह से ही संभव हो पाई है।

आज के समय में microbiology के लिए विश्व स्तर पर कई बड़े पड़कार खड़े है। जिसमे एक यह है की कैसे खाना, पानी और ऊर्जा को भविष्य के लिए सुरक्षित रखा जाए।

इसके उपरांत, सूक्ष्म जीव विज्ञान (biology in hindi) के सामने कुछ सवाल भी खड़े है। जैसे कि, कैसे पृथ्वी के जीवन में इतनी विविधता है और क्या ब्रह्माण्ड में कही और सूक्ष्म जीवन होगा।

जो भी हो, हम आगे बढ़ते है।

जैव प्रौद्योगिकी – biotechnology in hindi

Biotechnology वह शाखा है जिसमे जीव विज्ञान का एक टेक्नोलॉजी की तरह उपयोग किया जाता है।

दो शब्दों को समझिए,

Bio का अर्थ जीवित और technology का अर्थ तकनीक होता है। यानि ऐसी तकनीक जो जीवित प्रणालियों या जीवो पर आधार हो।

जैसे की, छाछ बनने का कारण बेक्टेरिया होता है। इस घटना में एक जीवित जिव का उपयोग किया गया है।

दूसरा उदाहरण कृषि से सबंधित है।

आज मार्किट में हाइब्रिड बियारण के पौधे मिल रहे है। जो जैव प्रौद्योगिकी की वजह से संभव हुआ है।

क्योकि पौधे एक जीवित प्रणाली होती है और उनका अभ्यास करके उनके लक्षणों में बदलाव किया जाता है।

वैसे यह तो सामान्य घटना थी, लेकिन बायोलॉजी में इसका एडवांस टेक्नोलॉजी के स्तर पर भी उपयग किया जाता है।

जीव रसायन विज्ञान – biochemistry in hindi

जिव रसायन विज्ञान असल में दो शाखाओं का समुह है।

जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान।

इस शाखा में जीवित जीवो के अंदर हो रही रसायन प्रक्रिया का अभ्यास किया जाता है।

खास करके अणु और परमाणु स्तर पर।

जैसे की, प्रोटीन और कोष के अंदर रहे DNA में रहे रसायन कैसे बनते है और कैसे एकदूसरे के साथ कैसे प्रतिक्रिया करते है।

इसके अलावा कोशिकाएं और मस्तिष्क में से निकलने वाले रसायनों का भी अभ्यास biochemistry में ही किया जाता है।

वनस्पति विज्ञान – botany in hindi

botany जीव विज्ञान (biology in hindi) की वह शाखा है जिसमे मात्र वनस्पति का अभ्यास किया जाता  है।

कहने के लिए तो यह भी है कि सूक्ष्म जीव जैसे की fungi और algae भी वनस्पति विज्ञान का हिस्सा है।

लेकिन वैज्ञानिको के मुताबिक इन सूक्ष्म जीवों की एक अलग ही दुनिया है। जिसके बारे में हमने कुछ देर पहले ही जाना है।

वनस्पति विज्ञान के अंदर 4,00,000 से भी ज्यादा पेड़ पौधों का अध्ययन होता है।

वनस्पति शास्त्री इसी शाखा में रहकर तरह तरह की जानकारी प्राप्त करते है। कुछ पौधों का पर्यावरण पर होने वाले असर के बारे में जानते है, तो कुछ पौधों की वृद्धि के बारे जानकारी इकट्ठी करते है।

साथ ही इसका भी अध्ययन करते है कि पेड़ पौधे में सूक्ष्म स्तर पर रही वस्तु कैसे कार्य करती है। क्योकि वनस्पति के भी अपने कोष और कोशिकाएं होती है।

कुछ वनस्पति शास्त्री सिर्फ नई वनस्पति प्रजाति की खोज करती है।

Botany in hindi, वनस्पती विज्ञान

Biology की इस शाखा के अभ्यास से हमे बहुत लाभ मिलता है।

हम जो दवाईयां इस्तमाल करते है उनमें से कई सारी पौधो के तत्वों से मिलकर बनी होती है।

इसके उपरांत खोराक की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए भी वनस्पति का उपयोग होता है। आखिर में सबसे खास वनस्पति Photosynthesis की प्रक्रिया से पृथ्वी को ऑक्सिजन देते है।

जो की इस शाखा को आभारी है।

चलिये अब कुछ सवाल जवाब हो जाए।

Biology question in hindi

मैं यहा पर कुछ सवाल के जवाब दे रहा हु, जो ज्यादातर लोगो के मन में उठते है।

इंसान का बायोलॉजिकल नाम क्या है?

होमो सेपियन्स (Homo sapiens)

जीव विज्ञान के जनक कौन हैं?

जीव विज्ञान के जनक ग्रीक दार्शनिक अरस्तू है।

बायोलॉजी की कितनी शाखाएं हैं?

कम शब्दो में बहुत ही ज्यादा। बायोलॉजी बहुत विशाल शाखा होने से इसकी कई उपशाखाएँ बनी हुई है।

Conclusion

तो बस यह थी कुछ जानकारी जीव विज्ञान (Biology in hindi) के बारे में। उम्मीद है आपको पसंद आयी होगी।

अब बारी आपकी है कॉमेंट में यह बताने की, की इस लेख में सबसे अच्छा आपको क्या लगा।

इसके मुलभुत सिद्धांत या शाखाएं। जो भी हो, कमेंट में बताएं।

लेकिन, हां, अगर आप कुछ रोमांचक पढ़ना चाहते है तो इन लेखो को एक बार जरूर देखें।

👉 जानिए विज्ञान क्या है (5 नई खोजो के साथ)

👉 भौतिक विज्ञान की रहस्य दुनिया (खास तथ्य)

👉 परमाणु क्या है और किसे कहते है (सरल भाषा में)

 

Leave a Comment

Share via
Copy link