What is Bootstrap paradox in hindi

 क्या आप कोई ऐसी चीज के बारे में जानते हो जो अपने आप बनी हो। एक ऐसी चीज जिसके बारे में आप यह कभी नही कह सकते कि यह चीज असल में आयी कहाँ से। आप लोगो को लग रहा होगा की में क्या कहा रहा हु, लेकिन असल में में बात कर रहा हु Bootstrap paradox in hindi की।

Bootstrap paradox in hindi
समय का जाल

अगर आपको नही पता की पैराडॉक्स क्या होते है तो कोई बात नही। में आपको समझाता हूँ। पैराडॉक्स का हिंदी भाषा में मतलब विरोधाभास होता है। (Bootstrap paradox meaning in hindi) विरोधाभास मतलब एक ऐसी पहेली जो किसी भी बात या विषय का दोनों तरफ से विरोध करती हो। आप ज्यादा मत सोचिए में आपको आगे सब कुछ समझा दूंगा। तो चलिए सुरु करते है।

What is Bootstrap paradox in hindi

सबसे पहले तो बूटस्ट्रेप पैराडॉक्स (Bootstrap paradox in hindi) को समझने के लिए एक उदाहरण लेते है।

आप के पास एक time machine है। हां, मुझे पता है कि यह अभी संभव नही है, लेकिन अभी के लिए यह मान लीजिए, अरे मान लीजिए ना, आपका क्या जाता है। तो अब आप उस टाइम मशीन के जरिये भुतकाल में जाते हो और वहाँ न्यूटन को मिलते हो। हां, वही न्यूटन जिसने लाखो बच्चों को परेशान कर रखा है। तो आप न्यूटन के पास जाकर कहते हो की तुमने गुरुत्वाकर्षण बल की खोज की है तो न्यूटन कहता है कि मुझे तो ऐसा कुछ मालूम नहीं है। तब आप उसे गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में बताते हो और फिर अपने समय में लौट आते हो।

न्यूटन के वहाँ कुछ समय बीत जाने के बाद आपने जो उसे बताया था, वो उसे समझ आता है और फिर वो उस समय दुनिया को गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में बताता है।

तो बस यही से समस्या शुरू होती है। यहाँ पर अब सवाल ये उठता है कि आखिर कार गुरुत्वाकर्षण बल की खोज की किस ने। क्योकि आप जो गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में जानते थे उसकी खोज तो न्यूटन ने ही की थी, लेकिन आप ने ही तो भुतकाल में जाके न्यूटन को गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में बताया था।

तो बस यह सवाल ये बनता है कि खोज किस ने की। अगर बात पर ध्यान दे तो आपको पता चलेगा कि गुरुत्वाकर्षण बल की जानकारी अपने आप बनी है, जिसे अंग्रेजी भाषा में self created कहते है। तो बस यह है बूटस्ट्रेप पैराडॉक्स। इसमें हम यह नही जान सकते की इस जानकारी का अस्तित्व आया कहा से। 

यहाँ पर अगर हम ये कहे की खोज न्यूटन ने की थी तो एक अंनत समय का जाल बन जाता है, जैसे की न्यूटन को आपने बताया था लेकिन आपको न्यूटन ने जब खोज की तभी पता चला था। यहा दोनों तरफ विरोधाभास बनता है।

वैसे ज्यादातर इस तरह के विरोधाभास समय को लेकर ही बनते है। लेकिन कुछ ऐसे भी विरोधाभास है जो एलियन और ब्रह्मांड पर सवाल उठाते है, जिसे Fermi paradox कहा जाता है।

Bootstrap paradox in hindi

 paradox in hindi से जुडी एक घटना भी है। इस घटना में एक इंसान दलदल में फंस जाता है तो वो अपने पास खड़े एक इंसान को कहता है वो उसे दलदल से बाहर निकले। फिर पास खड़ा बंदा दलदल में फंसे इंसान को उसके बाल खींचकर निकलता है।

हां, यह सुनने में अजीब है और असंभव भी। लेकिन यह घटना एक नाटक थी और इस नाटक के आधार पर जन्म हुआ Bootstrap paradox in hindi का।

इस पैराडॉक्स में चीजे एक अंतहीन समय में फंस जाती है। जो भुतकाल से भविष्यकाल में जाती है और फिर भविष्यकाल से भुतकाल में आती है,जहाँ पर आप कभी यह नही कह सकते की उस चिज की शुरुआत कहाँ से हुई थी। मतलब की उस चीज या घटना उतपन्न कहाँ से हुई थी।

बस कुछ इसी समस्या की वजह से वैज्ञानिको की माने तो भुतकाल में समय यात्रा करना संभव नही है या कहे कि भविष्यकाल में जाना भुतकाल में जाने से आसान है, क्योकि अगर हम भुतकाल में कुछ बदलाव करते है तो वो हमारे वर्तमान समय पर असर करता है, जब की भविष्य में किये बदवाल का हमारे वर्तमान पर कोई असर नही होता।

About Bootstrap paradox in hindi

में आपको इसके साथ कुछ और भी कहना चाहूंगा, वैसे तो यह Bootstrap paradox in hindi का हिस्सा नही है, लेकिन आपको साथ में बता ही देता हूं। माना जाता है कि अगर भुतकाल में कोई बदलाव आता है तो उस वजह से एक नई रियालिटी जन्म लेती है जीसे हम alternative timeline कह सकते है।

इस रियालिटी में हमने किये भुतकाल के बदलाव की वजह से एक नई संभावना बनेगी और वो संभावना एक नए समांतर ब्रह्मांड में घटित होगी। लेकिन इसमें भी एक समस्या है कि हमे अभी तक कोई प्रमाण नही मिला है कि समांतर ब्रह्मांड का अस्तित्व है भी या नही।

एक और थियरी है जो बताती है हम भुतकाल की किसी भी चिज को बदल नही सकते, अगर हम ऐसा करने की कोशिश करते है तो पाएंगे कि वर्तमान समय में जो कुछ है वो आपके उसी भुतकाल के बदलाव की वजह से है। अगर आप किसी और तरीके से भुतकाल को बदलने की कोशिश करते है तब भी आप पाएंगे कि आप वर्तमान समय में जो बदलना चाहते थे वो आपके भुतकाल में किये छेड़ छाड़ की वजह से बदला ही नही।

सीधा कहु तो आप वर्तमान समय को बदलने के लिए भुतकाल में जाते है लेकिन आप उसी स्थिति का कारण बनते हो जो वर्तमान में है। मतलब की एक और अंनत समय जाल। इसे predestination paradox कहते है। जिसके बारे में हम अगले भाग में बात करेंगे।

तो बताइए कि आपको यह Bootstrap paradox in hindi की जानकारी कैसी लगी। अगर कोई सवाल है तो कॉमेंट में पूछिएगा।

ऐसी ही अदभुत जानकरी के साथ एक और विषय जल्दी ही आएगा, लेकिन तब तक के लिए आप इन तीन गजब की बातों को पढ़ सकते हो।

➡️एलियन कहाँ है ये सवाल उठाते Fermi paradox

➡️ब्रह्मांड की जानकारी का खजाना – voygar 2

➡️एलियन की खोज में निकला यान – voyger 1

1 thought on “What is Bootstrap paradox in hindi”

Leave a Comment

Share via
Copy link