Information about voyager 2 in hindi

मैंने आपको अगली पोस्ट में बताया था कि साल 1977 में ब्रह्मांड के अनंत सफर के लिए दो यानो को भेजा गया था। लेकिन उसमे हमने सिर्फ voyger 1 के बारे ही बात की थी पर आज हम voyger 2 in hindi के बारे में बात करेंगे। इस यान की वजह से क्या जानकारी मिली, यह यान कहा पर है और इसके आगे का प्लान क्या है इन सब के बारे में।

Voyager 2 in hindi
Voyager spaceship

तो चलिए ज्यादा फालतू की बाते ना करके सीधे टॉपिक पर आते है।

20 अगस्त साल 1977 में इस यान को लौन्च किया गया था। इस यान के लिए यह साल चुनने की भी वही वजह थी जो voyger 1 के लिए थी। उस समय ग्रहो की कुछ ऐसी स्थिति बनती थी जिससे यान को एक ग्रह की कक्षा से दूसरे ग्रह की कक्षा में गुरुत्वाकर्षण बल का उपयोग करके भेजा जा सके। इस स्थिति को the grand tour जाता है। ऐसी ग्रहो की स्थिति 178 साल में सिर्फ एक बार आती है, मतलब की यह हमारे लिये बहुत खास था। अगर आपको अभी भी समझ नही आया तो आप इस फोटो को देख सकते हो।

The grand tour programme in hindi
The grand tour

साल 1979 में voyager 2 गुरु के सबसे नजदीक था। यान ने गुरु ग्रह और उसके कई चाँद की जानकारी दी। साथ ही ग्रह के ऊपर बनते बड़े तूफान और ज्वालामुखी जैसे महत्वपूर्ण जानकारी हम तक पहुंचाई। इसके बाद यह वहाँ से निकल पड़ा आगे की ओर।

25 अगस्त 1981 को वॉयजर 2 शनि ग्रह के काफी नजदीक पहुंच चुका था। उस वक्त उसने शनि ग्रह के वातावरण का अभ्यास किया और उसके दबाव और तापमान की जानकारी हम तक पहुंचाई। वैसे यह  आंकड़े हमारे लिए ज्यादा मायने नही रखते, लेकिन शनि ग्रह के स्पेस मिशन के लिए यह बहोत जरुरी है।

जहाँ voyger 1 को सिर्फ दो ग्रहो गुरु और शनि के ऊपर रिसर्च करनी थी वहां voyger 2 को चार बड़े ग्रह शनि, गुरु, यूरेनस और नेप्च्यून की नजदीक से जांच करनी थी। शनि ग्रह के बाद voyger 1 ने अपना अलग मार्ग लिया और उसके 9 महीने बाद voyger 2 in hindi अपने अगले ग्रह यूरेनस की और निकल पड़ा।

24 जनवरी 1986 को वॉयजर 2 युरेनस ग्रह के सबसे नजदीक पहुंच गया था। आते ही इसने युरेनस के 10 नए चाँद को ढूंढ निकाला। इसके साथ इसने उसके चुम्बकीय क्षेत्र का भी अभ्यास किया।

25 अगस्त 1989 को नेप्च्यून ग्रह के पास पहुंचा। इस ग्रह पर एक विशाल धब्बा बना हुआ है। पहले इस धब्बे को एक बादल समझा जाता था, लेकिन वॉयजर 2 से पता चला की असल में यह विशाल बादल में बना हुआ एक छेद है। इस तरह की कुछ जानकारी समेटने के बाद वो चल पड़ा एक अंजान सफर की और।

अभी के समय यह दूसरा यान बन चूका है हमारे सौरमंडल के बहार जाने वाला यान। पहले वॉयजर 1 ने सौर मंडल को 2012 में पार किया था और फिर वॉयजर 2 ने साल 2018 में सौरमंडल की सीमा को पार किया।

वॉयजर 2 के अंदर एक गोल्डन रिकॉर्ड को रखा गया है। जिसमे हम इंसानो की तस्वीरें, कई जानवरो की आवाजे जैसा बहुत कुछ शामिल है। इसे रखने का मकसद यह था कि अगर कभी Voyager 2 in hindi ब्रह्माण्ड में कही खो जाए और किसी एलियन को मिले तो वो यह जान सके की इस विशाल ब्रह्मांड के किसी कोने में इंसान नामक प्राणी भी रहते है जो ब्रह्मांड को खोज ने की भी ताकत रखते हैं।

मतलब की यह सिर्फ एक यान नही था, बल्कि इंसानो द्रारा इस ब्रह्मांड के अन्य जीवो को एक संदेश था।

जब इस मिशन को अंजाम दिया गया था तो इतनी उम्मीद नही थी की यह इतना सफर तक कर सकेगा, लेकिन आज यह हमारे सौरमंडल के बाहर है। यह इतनी दूर है की इसके सिग्नल को आने में 30 घँटे लग जाते है। इतनी ज्यादा दुरी होने की वजह से यह सिग्नल बहोत कमजोर पड़ जाते है। इसिलीए नासा ने पुरी दुनिया में अपने सिग्नल सेंटर बनाये रखे है।

अभी यह यान जिस जगह पर है वहाँ चारो और सिर्फ अँधेरा ही अँधेरा है। इसीलिए इसके केमेरो को बंद कर दिया गया है। जिससे ऊर्जा को बचाया जा सके। उसके साथ ही जो साधन खराब हो चुके है या फिर जिसकी जरूरत नहीं है उसे भी बंद कर दिया गया है।

वैसे इस यान में आण्विक बैटरी लगी हुई है जिसका जीवन काल बहोत लंबा होता है। लेकिन समय की मार के साथ इसमें से हर साल 4 वोट कम ऊर्जा उत्प्पन हो रही है।

अगले 10 साल के अंदर इस यान को पूरी तरह से बंद करना होगा और यह मानव जाती के लिए एक दुखद दिन होगा। फिर यह अंतरिक्ष में घूमता रहेगा इसी उम्मीद के साथ की कोई एलियन सभ्यता को इंसानो का यह मेसेज मिले और वह हमसे संपर्क कर सके।

इस यान से जुडी वैज्ञानिक गार्ड बताती है की अगर किसी घटना की वजह से इंसानी सभ्यता खत्म हो जाती है तो हमारा यह एक सन्देश ब्रह्मांड में बना रहेगा और समय में कभी किसी और सभ्यता को यह संदेश मिलेगा, जिससे हमारे होने के प्रमाण मिले।

अभी के समय वॉयजर 1और 2 दोनों ही सौर मंडल के बाहर है, लेकिन फिर भी हम तक वहाँ की जानकारी पहुंचा रहे है।

क्या पता किसी समय हमारा यह Voyager 2 in hindi यान किसी एलियन सभ्यता को मिले और वो हमसे संपर्क कर पाए। तो बस यह थी कुछ जानकारी about voyager 2 in hindi के बारे में।

अगर आपको ब्रह्मांड से जुडी जानकारी पसंद है तो आपको इन तीनो में से कोई एक लेख जरूर पसंद आएगा।

➡️ एलियन की खोज में निकला यान – voyger 1

➡️ एलियन कहाँ है ये सवाल उठाते Fermi paradox

➡️ एक सफेद बौना तारा – white dwarf star

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap