Information about sun in hindi

 आज का विषय सामान्य है,आज हम हमारे सूर्य (sun in hindi) के बारे में बात करेंगे। सूर्य के बारे में कुछ ऐसी जानकारी जिसे पढ़ने के बाद आपको बहोत कुछ जानने को मिलेगा। तो चलिए शुरू करते है हमारी इस अदभुत जर्नी को।

अगर आप विज्ञान और ब्रह्मांड में रूचि रखते हो तो आपको पता ही होगा की सूर्य एक तारा है और उसका द्र्व्यमान इतना है लंबाई इतनी है वगेरे वगेरे। लेकिन इस बार हम आपको कुछ अलग जानकारी देने वाले हैं।

Sun in hindi

वैसे तो हम सूर्य को देखकर यह कह सकते है कि यह एक आम तारा है, लेकिन यह हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। तो चलिए पहले में आपको इसके जन्म के बारे में बताता हूं।

About sun in hindi सूर्य के बारे में।

आज से तकरीबन 4.5 अरब साल पहले की बात है जब हमारे सौर मंडल का अस्तिव भी नही था। उस समय हमारे सौरमंडल की जगह एक सोलर नेब्यूला था। अगर आपको नही पता तो बता दू की नेब्यूला धूल और गैस का एक विशाल बादल होता है। इतना बड़ा की आप सोच भी नही सकते।

हां, तो इस बादल में समय के साथ धूल और गैस ज्यादा मिलते गए। फिर गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से यह सारी चीजें एक जगह सीधा कहे तो केंद्र की और जमा होने लगी। जैसे जैसे द्र्व्यमान केंद्र में जमा होता गया वैसे केंद्र का घनत्व भी बढ़ता गया और उस केंद्र से बना हमारा सूर्य।

तो कुछ इस तरह से जन्म हुआ हमारे सूर्य का। हमारा सूर्य गैस से बना हुआ है जिसमे हायड्रोजन और हीलियम वायु सबसे ज्यादा होती है इसके साथ और भी वायु होते है लेकिन उसकी मात्रा बहोत कम होती है जिसमे कार्बन जैसे गैस आते है।

अब बात करते है इसके न्यूक्लियर फ्यूजन की। क्या आपने कभी सोचा है कि किसी तारे को ऊर्जा कहाँ से मिलती है। मतलब की वो चमकता है गर्मी उत्पन्न करता है रौशनी देता है, इन सब के लिए एक तारा ऊर्जा कहाँ से प्राप्त करता है। इसका जवाब है तारे की न्यूक्लियर फ्यूजन प्रक्रिया से। अब आप कहेंगे ये क्या है। चलिए में आपको समझाता हूँ।

हमारा सूर्य भी एक तारा ही है तो में आपको उसी के जरिये समझाता हु। हमारे सूर्य के अंदर हायड्रोजन होता है। तो वो हायड्रोजन जलता रहता है और समय के साथ नष्ट होता रहता है। बिलकुल एक न्यूक्लियर रिएक्टर की तरह। बस तो यही से सूर्य को ऊर्जा मिलती है और इसी प्रकार समय बीतता रहता है।

लेकिन अब आगे क्या, आपके मन छायद यह सवाल जरूर आएगा की सारा हायड्रोजन जब खत्म हो जाता है तो क्या होगा। देखिये, जब कोई तारे के अंदर का हायड्रोजन खत्म हो जाता है तो उसकी जगह हीलियम गैस ले लेता है। लेकिन हीलियम हायड्रोजन जितना शक्तिशाली ना होने की वजह से न्यूक्लियर प्रक्रिया पहले के मुकाबले धीमी होती है।

इसी तरह हमारा सूरज अपनी जिंदगी बिताता रहता है और फिर एक समय आता है जब यह एक रेड जायंट स्टार में बदल जाएगा। इस स्थिति में वो बहोत विशाल हो जाएगा। जिससे कई ग्रह उसमे समा जाएंगे। पहले बुध फिर शुक्र और बाद में हमारी प्यारी धरती भी। 

इसके बाद यह रेड जायंट स्टार अंतरिक्ष में अपना द्र्व्यमान गुमाने लगेगा। और आखिर में पीछे छूट जाएगा सिर्फ इसका कोर (केंद्र)। इस घटना के बाद हमारा सूरज ( sun in hindi ) एक बौने तारे में बदल जाएगा। अगर आपको नही पता की बौने तारे क्या होते है तो आप यहां इसे पढ़ सकते है।

➡️बौने तारे क्या है – white dwarf star in hindi

एक सफेद बौने तारे का जीवन बहोत लंबा होता है। इसका तापमान धीरे धीरे कम होने लगता है और जब  तापमान शून्य तक पहुंच जाता है तो यह सफेद तारा एकक ब्लेक बौने तारे में बदल जाता है। हमारा सूरज भी आखिर में एक ब्लेक बौना तारा ही बन जाएगा। 

चलिए आपको सूर्य की जानकारी के साथ साथ ब्रह्मांड से जुडी एक मजेदार बात भी बताता हूं। अब तक हमारे इस ब्रह्मांड में एक भी ब्लेक बौना तारा नही मिला है, क्योकि ब्रह्मांड की उमर ही इतनी नही हुई है कि कोई सफेद तारा ब्लेक तारे में बदले। चलिए अब हम वर्तमान पर बात करते है।

सूर्य ने अभी अपना आधा जीवन ही पार किया है। अभी यह 6 अरब साल तक ऐसा ही रहेगा। फिर यह एक रेड जायंट स्टार में बदलना शुरू होगा। तो आपको गभराने की जरूरत नही है।

सूर्य की परिक्रमा – information about sun in hindi

जैसे हमारी पृथ्वी सूर्य के चारो और घूमती है उसी तरह हमारा सूर्य भी सारे ग्रहो को लेकर हमारी आकाशगंगा मिल्की वे के केंद्र की परिक्रमा करता है। सूर्य को आकाशगंगा का एक चक्र पूरा करने में 25 करोड़ साल लगते है। चलिए इसके साथ आपको में एक मजेदार बात भी बताता हूं। अभी हमारा सूर्य आकाशगंगा की जीस जगह पर मौजूद है, उस जगह पर सूर्य पिछली बार तब था, जब पृथ्वी पर डायनासोर थे।

तो दोस्तों यह थी हमारे सूर्य की रोमांचक यात्रा। लेकिन रुकिए अभी में आपको उससे जुड़े कुछ तथ्य भी बताता हूँ।

Facts about sun in hindi – सूर्य जे बारे में अदभुत तथ्य

वैसे तो सूर्य हमारी आकाशगंगा मिल्की वे के 200 अरब तारो में से एक है, जो ब्रह्मांड के लिए कोई बड़ी बात नही है, लेकिन सूर्य हमारे लिए बहोत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

सूर्य कोई छोटा मोटा तारा नही है, इसके अंदर लगभग 13 लाख पृथ्वी समा सकती है।

सूर्य के रौशनी की शक्ति इतनी ज्यादा है कि यह 6 अरब किलोमीटर दूर रहे प्लूटो तक पहुंचती है। लेकिन बहोत कम

सच तो यह है कि सूर्य है तभी हम है, अगर सूर्य ना रहे तो हमारी धरती पर चारो और ठंड ही ठंड होगी।

इसकी रौशनी को हमारी पृथ्वी तक आने में 8 मिनिट लगते है।

कई प्राचीन सभ्यताओं ने सूर्य को भगवान का दरज्जा दिया है,जिनमे से एक भारतीय संस्कृति भी है।

सूर्य हर सेकंड अपना कई लाख टन वजन अंतरिक्ष में खो रहा है। लगभग 50 लाख टन प्रति सेकंड।

संस्कृत भाषा में हमारे सूर्य के 108 नाम है। जिनमे से कुछ तो छायद आपको आते भी होंगे। जैसे की आदित्य, रवि, भानु। अगर आपको कोई और नाम आता है तो कॉमेंट में बता देना।

हमारे सूर्य का रंग ना तो पिला है और ना ही लाल। असल में यह सफेद रंग का है। क्यों चोंक गए ना। 😂😂😂

हम इंसानो ने पिछले 40,000 सालो में जितनी ऊर्जा का उपयोग किया है उससे ज्यादा ऊर्जा तो सूर्य हमारी धरती पर सिर्फ 30 दिन में भेज देता है।

नॉर्वे एक ऐसा देश जहाँ सूर्य साडे तीन महीने तक नही ढलता है। तो क्या आप वहां जाना पसंद करेंगे।

तो बस यह थी कुछ मजेदार जानकारी हमारे सूरज (sun in hindi) के बारे में। अगर आपको और भी कुछ इंटरेस्टिंग जानना है तो आप ये तीन लेख में से कोई एक पसंद करके पढ़ सकते हो।

➡️ समय का जाल – bootstrap paradox

➡️ब्रह्मांड की जानकारी का खजाना – voygar 2

➡️एलियन की खोज में निकला यान – voyger 1

Leave a Comment