शुक्र ग्रह के बारे में सब कुछ venus planet

हमारे सौरमंडल में सबसे गर्म ग्रह से पहचाने जाने वाला ग्रह शुक्र है। जिसे अंग्रेजी भाषा में venus कहा जाता है। तो चलिए जानते है इस अजीब ग्रह के बारे में।

शुक्र ग्रह के बारे में – about Venus planet in hindi

शुक्र हमारे सौरमंडल का दूसरा ग्रह है। आसमान में ज्यादा चमकने की वजह से रोमन सभ्यताओं ने प्यार और सुंदरता की देवी के नाम पर से इसे venus नाम दिया है। 14 करोड़ 70 लाख दुरी के साथ यह पृथ्वी का सबसे नजदीक planet बनता है। वैसे आसमान में सबसे ज्यादा चमकने वाला तारा सिरियस है, लेकिन जब हम आसमान में देखेंगे तो शुक्र सिरियस की तुलना में ज्यादा चमकीला दिखेगा। लेकिन यह एक ग्रह है ना की कोई तारा। शुक्र ग्रह (venus planet in hindi) का कोई अपना चाँद नही है। ईस ग्रह का तापमान कभी कभी तो 462 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है, तापमान के इस स्तर पर जिंक और टिन जिस धातु भी पिघल जाती है।

Venus planet in hindi
venus planet

जैसे हमारी पृथ्वी अपनी धरी पर घूर्णन करती है उसी तरह शुक्र भी अपनी धरी पर घूर्णन करता है। लेकिन शुक्र ग्रह की अपनी धरी की घूर्णन गति बहोत धीमी है। इतनी धीमी की उसको एक घूर्णन पूरा करने में 243 दिन लग जाते है। वही दूसरी तरफ सूरज के चारो और एक चक्कर पूरा करने में 225 दिन ही लगते है। इसका मतलब की शुक्र ग्रह का एक दिन उसके एक साल से बड़ा होता है। है ना अजीब चीज।

खगोलीय घटना – venus in hindi

पहले मैने आपको बताया उसके अनुसार शुक्र ग्रह (venus in hindi) अपनी धरी पर उल्टा घूमता है। मतलब की यहाँ पर सूरज पश्चिम दिशा से उदय होता है और पूर्व में अस्त। आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा की सिर्फ यह ग्रह क्यों उल्टा घूमता है। खगोलशास्त्रीओ का ऐसा मानना है कि कई सालों पहले एक बड़ी उल्कापिंड शुक्र से टकराई होगी जिससे इसकी दिशा उलटी हो गयी। इसके साथ देखने वाली बात यह भी है कि शुक्र की अपनी धरी पर घूर्णन की गति भी बहोत धीमी है। जिसकी वजह से यह कहा जा सकता है कि ऐसी घटना होने की संभावना ज्यादा रही होगी।

Venus and earth

venus planet कुछ हद तक हमारी पृथ्वी जैसा ही है। इसकी वजह से पृथ्वी और शुक्र दोनों को जुड़वाँ कहा जाता है। अगर बात करे इस ग्रह की तो इसका आकार हमारी पृथ्वी का 95% और द्र्व्यमान 80% जितना है। सिर्फ यह नही बल्कि यहाँ की सतह भी लगभग हमारी पृथ्वी से मिलती है। लेकिन इसकी सतह पर सल्फ्यूरिक एसिड के बादल छाए हुए है जिससे सतह को देखना बहोत मुश्केल हो जाता है। शुक्र की सतह 300 मिलियन साल पुरानी है जब की हमारी पृथ्वी की सतह 100 मिलियन साल पुरानी है।

Venus meaning in hindi
venus and earth

वायुमंडल

लेख के शुरुआत में ही मैंने आपको बता दिया था कि शुक्र हमारे सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह है जब की सूरज के सबसे नजदीक बुध ग्रह है। लेकिन फिर भी वो दूसरे स्थान पर आता है। दोनों ग्रहों के गर्म होने की वजह उसका वायुमंडल है। शुक्र का वायुमंडल पृथ्वी से 90 गुना ज्यादा है। पृथ्वी के समंदर में 1 किलोमीटर गहराई में पानी की वजह से जितना दबाव उत्पन्न होता है उतना ही दबाव शुक्र ग्रह की सतह पर उसके वायुमंडल की वजह से होता है। इतने ज्यादा दबाव और घनत्व की वजह से जो गर्मी वायुमंडल में प्रवेश करती है वो बाहर नही निकल पाती। इस तरह की घटना को ग्रीन हाउस असर कहते है। आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन venus planet पर कोई गढ्ढे नही है। क्योंकि जब कोई उल्का पिंड इसके वातावरण में प्रवेश करती है तो उसका वायुमंडल उसके सतह पर पहुँचने से पहले ही उसे नष्ट कर देता है।

शुक्र ग्रह पर किये गए मिशन – mission on venus

शुक्र ग्रह (venus planet hindi) पर अंतरिक्ष मिशन करना कोई सरल काम नही है। उसके तापमान और वायुमंडल की वजह से कोई भी यान ज्यादा समय तक इसकी सतह पर नही रह सकता। साल 1966 में रूस के द्रारा venera – 3 को शुक्र की कक्षा में भेजा गया था, लेकिन उसके भयानक तापमान की वजह से यान सिर्फ 3 घँटे में ही नष्ट हो गया। साल 2006 में यूरोपियन स्पेस एजंसी ने Venus express space मिशन किया। इस मिशन ने 1,000 से भी ज्यादा ज्वालामुखी की खोज की। इन में से कुछ ज्वालामुखी तो 20 किलोमीटर जितने बड़े है। नासा के मुताबिक इनमे से ज्यादातर ज्वालामुखी निष्क्रिय है। लेकिन कुछ अभी भी सक्रिय है।

शुक्र ग्रह के बारे में रोचक तथ्य – key and facts about venus in hindi

यूरेनस भी शुक्र की तरह उलटी दिशा में घूर्णन करता है।

शुक्र ग्रह के maxwell montes पर्वत की ऊंचाई 8.8 km है। जो इसे ग्रह का सबसे ऊंचा पर्वत है। अगर इसकी तुलना माउंट एवरेस्ट से करे तो लगभग दोनों की ऊंचाई समान है।

Venus planet पृथ्वी से सिर्फ 638 km ही छोटा है।

इसका अक्षीय जुकाव सिर्फ 3 डिग्री है, जिसकी वजह से यहाँ पर मौसम परिवर्तन नही होता है।

अपने अक्ष पर बहोत ही धीमी गति होने की वजह से इसका चुम्बकीय क्षेत्र वहुत ही कमजोर है।

शुक्र पर अब तक कुल मिलाकर 40 मिशन किये जा चुके है।

अन्य ग्रहों की तुलना में शुक्र के पास ज्यादा ज्वालामुखी है।

वैज्ञानिको के मुताबिक अरबो साल पहले इस ग्रह पर पानी के समंदर थे, लेकिन अत्यधिक गर्मी की वजह से सारा जलस्रोत नष्ट हो गया।

अगर आपको venus planet से जुडी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने किसी ऐसे दोस्त के साथ जरूर शेयर करे जो ऐसी जानकारी को पसंद करता हो।

यह तीन चीजें जरूर आपको पसंद आएगी।

दूसरे सबसे गर्म ग्रह बुध के बारे में सारी जानकारी और तथ्य

हमारी आकाशगंगा मिल्की वे के बारे में अदभुत जानकारी

जानिए मंगल ग्रह के विशाल पर्वत और गहरी खाई के बारे में

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap