क्या आप अरुण ग्रह की ये बाते जानते हो – uranus planet

अरुण ग्रह जिसे अंग्रेजी भाषा में uranus के नाम से जाना जाता है बहोत ही अजीब ग्रह है। इसकी कुछ विशेषताए आज भी खगोल शास्त्रीओ के लिए एक रहस्य बनी हुई है। तो चलिए जानते है इस अजीब ग्रह के बारे में।

History of uranus – अरुण ग्रह का इतिहास

अरुण ग्रह सूर्य से काफी दूर है और बहोत ही धीमी गति से आगे बढ़ता है। इसी कारण की वजह से पहले के समय उसे एक सितारा माना जाता था। लेकिन फिर एक बंदा आया इस बन्दे का नाम William Herschel था। यह अपने टेलेस्कोप के साथ छोटे तारो का अध्य्यन कर रहा था, उसने देखा की एक तारे की प्रक्रिया अजीब है। यह एक प्लेनेट की तरह घूम रहा था। फिर एक साल की रिसर्च के बाद उसने पाया की यह असल में एक ग्रह ही है।

इस ग्रह का नाम यूरेनस दिया गया जो ग्रीक के आकाश के देवता ouronas के नाम पर से रखा गया है। सौरमंडल का यह पहला ग्रह है, जिसका नाम ग्रीक की संस्कृति पर से लिया गया है। क्योकि इससे पहले ग्रहो के नाम रोमन देवी या देवताओ से रखे गए थे।

अरुण ग्रह के बारे में – About Uranus planet in hindi

अरुण ग्रह हमारे सौरमंडल का सातवां ग्रह है इसकी सूर्य से दूरी तकरीबन 2.9 अरब किलोमीटर है। इसके साथ यह हमारे सौरमंडल का तीसरा सबसे बड़ा प्लेनेट भी है। अगर हमारी पृथ्वी से तुलना करे तो यह पृथ्वी से 63 गुना बड़ा है, लेकिन इसकी ग्रेविटी पृथ्वी की 86% जितनी ही है।

इसकी वजह यह है कि यह एक गैस जायंट प्लेनेट है। सूर्य के किरणों को इसकी सतह पर पहुँचने में 2 घँटे 40 मिनिट का समय लगता है,जब की पृथ्वी पर पहुचने में सिर्फ 8 मिनिट ही लगते है। इसका वजन भी पृथ्वी के मुकाबले 14 गुना ज्यादा है।

Uranus in hindi
अरुण ग्रह

धरी पर भ्रमण – Uranus in hindi

Uranus ग्रह अपनी एक्सिस से 97.77 डिग्री जुका हुआ है। इसकी वजह वैज्ञानिक एक एस्टरॉयड बता रहे है जो कई सालों पहले अरुण ग्रह से टकराया होगा। जिससे यह इतना मुड़ गया होगा।

uranus इतनी धीमी गति से आगे बढ़ता है की उसे सूर्य का एक चक्कर पूरा करने में 84 साल का समय लगता है। इसके साथ यह ग्रह बहोत जुका हुआ भी है जिसकी वजह से इसके दोनों ध्रुव क्षितिज हो जाते है। जिससे इनमे से एक 42 साल तक सूर्य के ठीक सामने रहता है और दूसरा 42 साल तक अँधेरे में डूबा रहता है।

अगर बात करे uranus की अपनी धरी के घूर्णन गति की तो, यह बहोत तेज है इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते है की uranus पर एक दिन सिर्फ 17 घँटे का ही होता है। जो की सौरमंडल का दूसरा सबसे छोटा दिन माना जाता है।

वैसे तो सौरमंडल के सारे ग्रह पूर्व से पश्चिम की और घूमते है, लेकिन अरुण और शुक्र दोनों ऐसे ग्रह है जो इससे विपरीत उलटी दिशा में घूमते है। मतलब की इन दो ग्रहो पर सूर्य पश्चिम से उदय होता है पर पूर्व में अस्त।

विशेषताए Uranus meaning in hindi

यूरेनस एक gas giant planet है। इसके वायुमंडल में हायड्रोजन 82.5%, मीथेन 15.2 और हीलियम 2.3℅ प्रतिशत है। जब की अंदर की रचना बर्फ ऐमोनिया और मिथेन बर्फ से बनी हुई है। इसी वजह से इसे एक ice giant planet कहा जाता है एक gas giant planet के बदले।

यूरेनस हमारे सौरमंडल का सबसे ठंडा ग्रह है, जब की सूर्य से सबसे ज्यादा दूर नेप्च्यून ग्रह है। इसकी वजह यूरेनस का वायुमंडल है, जो ज्यादातर सूर्य से आने वाली गर्मी को परावर्तित कर देता है। इसीलिए उसके वायुमंडल को सबसे ठंडा माना जाता है। इस ग्रह पर तापमान लगभग -22म् जितना रहता है।

वैज्ञानिको के मुताबिक यूरेनस के सतह के नीचे बहोत ज्यादा दबाव और गर्मी मौजूद है जिसकी वजह से कार्बन हीरे में बदल जाते है। लेकिन यह एक अनुमान है।

अरुण ग्रह के चाँद Uranus planet in hindi

हमारी पृथ्वी के पास एक ही चाँद है जब की यूरेनस के अब तक 27 चाँद की खोज हो चुकी है और संभावना है कि और भी चाँद होंगे। इन सबके नाम अंग्रेजी साहित्य के William Shakespeare’s की किताब “A Midsummer Night’s Dream” और Alexander Pope की किताब “The Rape of the Lock” से लिए गए है।

Oberon और Titania यूरेनस के दो सबसे बड़े उपग्रह है। इसकी खोज साल 1787 में हुई थी। साल 1986 में वॉयजर 2 ने इस ग्रह का अध्ययन किया था, जिससे 10 और उपग्रह की खोज हुई थी। इसके उपग्रह को लेकर वैज्ञानिक सोच में पड़ गए है कि इतने करीब उपग्रह होने के बावजूद भी यह एक दूसरे से टकराते क्यों नही।

Uranus planet rings

यूरेनस ग्रह के पास भी अपनी रिंग्स है। जब वैज्ञानिको ने इसकी रिंग्स को खोज निकाला। तो इससे यह समझना आसान हो गया कि किसी ग्रह के पास रिंग्स होना उसकी एक विशेषता है बजाय के सिर्फ शनि ग्रह के पास ही रिंग्स है।

यूरेनस के पास रिंग्स के दो सेट है। inner system and outer system. इनर सिस्टम की रिंग्स पतली और डार्क रंग की है जब की आउटर सिस्टम की रिंग्स लाल और नीले रंग की है। आउटर सिस्टम की रिंग्स को हबल टेलेस्कोप द्रारा खोजा गया था। अब तक कुल मिलाकर 13 रिंग्स खोजी जा चुकी है।

Key and facts about Uranus in hindi

यूरेनस का चुम्बकीय क्षेत्र भी बहोत अजीब है, इसका उत्तर ध्रुव दक्षिण ध्रुव की तुलना 10 गुना ज्यादा शक्तिशाली दिखाई पड़ता है।

मीथेन गैस की वजह से यह ग्रह नीला दिखाई देता है।

कुछ ज्यादा ही अक्षीय जुकाव की वजह से यहा पर मौसम में बहोत अजीब बदलाव देखने को मिलते है।

यूरेनियम पदार्थ का नाम यूरेनस ग्रह से ही रखा गया है।

Fun fact: अरुण ग्रह की खोज अंटार्कटिका महाद्वीप से पहले हुई थी।

तो बस यह थी हमारे अरुण ग्रह या कहे uranus planet के बारे में जानकरी। अगर आपको सौरमंडल से जुडी और भी जानाकारी चाहिए तो यह लेख पढ़ सकते हो।

 

जानिए: सौरमंडल क्या है और कैसे बना था।

 

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap