गॉड पार्टिकल के बारे में higgs boson

What is god particle in hindi

असल में god particle का नाम higgs boson है। लेकिन इसकी खोज को देखकर उसे यह नाम दिया गया है। चलिए जानते है आज एक विज्ञान के नए करिश्मे के बारे में।

higgs boson in hindi
God particle

Higgs boson in hindi

गॉड पार्टिकल वो चीज है जो प्राथमिक अणु परमाणु को द्र्व्यमान प्रदान करता है। मतलब की जब प्राथमिक अणु जैसे की प्रोटोन और इलेक्ट्रान इस हिग्स बोसोन के साथ मिलते है तब इनमे द्र्व्यमान आता है। कुछ ऐसे कण भी है जो द्र्व्यमान रहित होते है जैसे की फोटोन कण। ऐसे कणो में हिग्स बोसोन का अस्तित्व नही होता है।

वैसे तो यह सिर्फ द्र्व्यमान देने का कार्य करते है जिसकी वजह से आप इस god particle को द्र्व्यमान कह सकते हो। लेकिन यह सिर्फ द्र्व्यमान ही नही एक तरह के कण भी होते है। पर यह कण अस्थिर होते है। लेकिन जब प्राथमिक कणो से मीलकर उन्हें द्र्व्यमान प्रदान करते है तब स्थिर हो जाते है। इन हिग्स बोसोन कणो का वजन प्रोटोन से 130 गुना ज्यादा होता है। वैज्ञानिको के मुताबिक हमारे ब्रह्मांड में हिग्स बोसॉन क्षेत्र भी होता है। जो संपूर्ण ब्रह्मंड में फैला हुआ है। यह खाली जगहों पर मौजूद होता है।

History of god particle in hindi

साल 2012 में सर्न प्रयोगशाला में लार्ज हेड्रॉन कोलाइज़र में इसे खोजा गया था। इस मशीन में अणु परमाणु को बहोत तेज गति से लगभग प्रकाश की गति से टारगेट के साथ टकराया जाता है, इसकी वजह से अणु में रहे कण उससे अलग हो जाते है। लेकिन यह अलग किये कण ज्यादा समय तक अकेले नही रह सकते क्योंकि वह अस्थायी होते है।

महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने शर्त लगायी थी की higgs boson जैसे कण का अस्तित्व नही हो सकता। हॉकिंग के मुताबिक हिग्स बोसोन का अस्तित्व भौतिक विज्ञान को कम दिलचस्प बना देता है और साथ में कई सारी समस्या को भी खड़ी करेगा।  लेकिन साल 2012 में वैज्ञानिको ने sern प्रयोगशाला में इन कणो को खोज निकाला। इसकी वजह से स्टीफन हॉकिंग अपनी 100$ की शर्त हार गए। 

God particle and higgs boson

वैज्ञानिको के मुताबिक जब बिग बैंग से हमारे ब्रह्मांड का जन्म हुआ, उसी समय हिग्स बोसोन की वजह से यूनिवर्स को खत्म हो जाना चाहिए था। लेकिन ऐसा नही हुआ। आप सोच रहे होंगे की ऐसे कैसे यूनिवर्स ख़त्म हो जाना चाहिए था। चलिए आपको पहले वो बताता हूं। हिग्स बोसोन के कण एक दूसरे को आकर्षित करते है ऐसी स्थिति में किसी भी चीज का निर्माण संभव नही बनता है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। क्योंकि दो हिग्स बोसोन कण को आकर्षित होने मे उच्च ऊर्जा स्तर की जरूरत होती है। एक हद से भी ज्यादा ऊर्जा की। लेकिन जब बिग बैंग हुआ, तब  ब्रह्मांड का विस्तार होना शरू हो गया।

इसकी वजह से गॉड पार्टिकल को कभी इतनी ऊर्जा मिली ही नही जिससे सारे हिग्स बोसॉन का कोलाइज़न हो। लेकिन वैज्ञानिको के मुताबिक हमारा ब्रह्मांड कभी भी खत्म हो सकता है। हमारा ब्रह्मांड स्थिर और अस्थिर ब्रह्मांड के किनारे पर है। यह कभी अस्थिर बनकर ख़त्म हो सकता है। लेकिन रुकिए, इसे खत्म होने में कम से कम 10^100 (1 के पीछे 100 शून्य) जितने साल बाकी है तो आप अपनी पढाई चालु रखिये और किसी से यह सोचकर पैसे उधार मत ले लेना की ब्रह्मांड तो अब खत्म होने वाला है।

Higgs boson Facts in hindi

“अगर हिग्स बोसोन नही होते तो द्र्व्यमान नही होता और द्र्व्यमान नही होता तो ना हम होते और ना ही यह ब्रह्मांड होता।” यह वाक्य एक वैज्ञानिक द्रारा दिया गया है।

हिग्स बोसोन का असल में गॉड पार्टिकल जैसा कोई नाम ही नही है यह नाम उसे मीडिया के द्रारा मिला है।

हिग्स एक क्षेत्र है और हर क्षेत्र में उसका एक पार्टिकल होता है। हिग्स फिल्ड के लिए हिग्स बोसोन पार्टिकल है।

तो कैसा लगा आपको god particle का यह लेख। आपको यह higgs boson कण सामान्य लग सकते है, लेकिन विज्ञान की दुनिया में इसने एक बड़ी पहेली को सुलाजकर रख दिया है।

आपको इन तीनो में से कोई एक लेख जरूर पसंद आएगा।

दूसरे सबसे गर्म ग्रह बुध के बारे में सारी जानकारी और तथ्य

हमारी आकाशगंगा मिल्की वे के बारे में अदभुत जानकारी

जानिए मंगल ग्रह के विशाल पर्वत और गहरी खाई के बारे में

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap