White hole वाइट होल

आपको तो पता ही होगा की अगर black hole के क्षेत्र में कोई चीज आ जाती है तो वो उसे अपने अंदर खींच लेता है। लेकिन क्या आप white hole के बारे में जानते हो। चलिए जानते है कुछ अमेजिंग वाइट होल के बारे में।

Concept of white hole
माना जाता है कि जैसे ब्लैक होल होता है वैसे ही वाइट होल होते है। ये अपने अंदर से सारी चीजो को यहां तक की लाइट को भी बाहर की तरफ फेकते है। white hole सिर्फ गणित में ही प्रूफ किए गए है, ब्रह्मांड में इसका अस्तित्व अभि तक मिला नही है। जैसे black hole के नजदीक टाइम धीमा हो जाता है वैसे ही white hole के नजदीक टाइम बहुत ही तेज होता है। माना जाता है कि black hole से हम भविष्य में ट्रेवल कर सकते है, तो कुछ इस तरह वाइट होल के जरिए हम समय को रिवर्स भी कर सकते है और भुतकाल में जा सकते है।

Possibility of white hole
भौतिक शास्त्र से अगर देखा जाए तो white hole का होना संभव ही नहीं है। क्योंकि white hole thermodynamics के दूसरे नियम को तोड़ते है। इस नियम को अपने तरह से समझते हैं।
ब्रह्मांड का नियम है कि universe की कोई भी चीज अपने अंत की तरफ जाएगी ना की निर्माण की तरफ। लेकिन white hole अपने अंदर से चीजो को बाहर फेंकता है और उसे जन्म देता है। अगर white hole होते भी है तो वो कुछ सेकंड के लिए ही रहेंगे क्योंकि वो अस्थिर होंगे।

White hole का निर्माण
जब कोई तारा सुपरनोवा बनकर destroy होता है तब वो अपने अंदर ही समाने लगता है जब तक एक बिंदु जितना ना हो जाए, और black होल का निर्माण होता है। ये बिंदु जो अपने अंदर समाता जाता है वो अंनत मास और ग्रेविटी तरफ जाता है लेकिन अंनत (infinite) होने से पहले ब्रह्मांड के दबाव की वजह से वो विस्फोटक हो जाता है, और सेकंड के खरब भाग में white hole का निर्माण होता है। इस समय ग्रेविटी और space-time की वजह से देखने वाले के लिए समय slow हो जाएगा और हमे वो घटना कई अरब साल की लगेंगी। तो ऐसा कुछ होगा की black hole के अंत में white hole का जन्म हो रहा है।

Hawking radiation theory
Scientist Stephan hawking ने hawking radiation theory दी, जिसके अनुसार white hole का अस्तित्व है। चलिए जानते है वो थियरी।
black hole हमेंशा नहीं रहते, वो समय के साथ रेडिएशन छोड़ते है और खत्म हो जाते है। अगर black hole खत्म हो जाते है तो उनकी अंदर की समाई हुई चीजो का क्या? क्योंकि ब्रह्मांड के कणो को बनाया या नष्ट नहीं किया जा सकता। रेडिएशन थियरी के मुताबिक black hole के दूसरी तरफ white hole होता है जो सारी चीजो को बाहर निकाल देता है। इस तरह black hole और white hole जुड़े होते है और एक पोर्टल बनाते है जो दूसरे समांतर ब्रह्मांड में जुड़ा होता है।

Connected by worm hole
albert einstain और nathan rosan ने साल 1935 ने black hole के सेन्टर को लोकेट किया जिसे einstain rosan ब्रिज कहा गया। उसे हम worm hole से ज्यादा पहचानते है। यहां पर देखने वाली बात यह थी की अगर worm hole की पहली साइड ब्लैक होल थी तो दूसरी साइड क्या है? इस दूसरी बाजु को white hole नाम दिया गया।और इन दोनों को जोड़ने वाली सुरंग को worm hole कहा गया।

Research of white hole
अगर भौतिक शास्त्र के अनुसार वाइट होल का होना असंभव है तो खोज क्यों??
Einstian की जनरल रिलेटिविटी और न्यूटन फिजिक्स के अनुसार समय अगर आगे जा सकता है तो पीछे भी जा सकता है। einstain की जनरल रिलेटिविटी के गणितीय रीत में white hole का गणित सोल्युशन लाता है। एक और बात है, जो गणित black hole के अस्तित्व को दिखाते हैं वही white hole का भी होना तय करते है। इसीलिए white hole के होने की संभावना है।

Big bang theory
अगर white hole होते है तो इससे big bang का रहस्य सुलझ सकता है। कैसे? आइए जानते हैं।
हमारा ब्रह्मांड एक छोटे से बिंदु में से बना हुआ है और अभी भी फैलता जा रहा है। कह सकते है कि एक पॉइंट में से white hole की रचना हुई जिसके द्रारा हमारा ब्रह्मांड अस्तित्व में आया। अगर ऐसा हुआ तो असल में हमारा ब्रह्मांड हमारी कल्पना से भी बड़ा होगा।

Research on white hole
14 June साल 2006 में NASA के  सेटेलाइट ने एक बड़े धमाके को रिकॉर्ड किया। इसे नाम दिया गया GRB060614. ये धमाका अब तक की किसी भी आम घटना से मेल नहीं होता था। क्योंकि कोई आम घटना कुछ सेकंड के लिए होती है लेकिन यह 102 सेकंड तक घटना नोटिस की गई। इसमें सबसे आश्रयजनक बात यह थी की ये हमारे सूर्य से 1खरब गुना ज्यादा शक्तिशाली था लेकिन धमाका सिर्फ एक बिंदु में से ही हुआ था। ये सारी बातै white hole तरफ ही जाती थी। तो क्या सचमे वो एक white hole ही था?? पता नहीं, लेकिन आपको क्या लगता है वो जरूर बताना।

तब तक के लिए अलविदा।

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap