Secrets of the pyramids पिरामिड के अदभुत रहस्य


अगर आपने पिरामिड के ऊपर बने पहले भाग को नही पढ़ा है तो पहले आप उन्हें पढ़े। बाद में इस भाग को पढ़ना शुरू करे। क्योकि ए भाग बिलकुल उसके बाद से ही शुरू हुआ है। और अगर आप उसे पढ़ चुके है तो इसे आगे पढ़ना चालू रखिए

Click here⏩ पिरामिड के अदभुत रहस्य part 1


Dendera light

डेन्डेरा इजिप्त में आए हुए एक जगह का नाम है। यहाँ पर dendera light complex नाम का एक मंदिर है जो की एक रहस्य बना हुआ है। ये मंदिर इजिप्त वासियो ने अपने भगवान hator के लिए बनाया था। साल 1850 तक उसके ज्यादातर हिस्से पर रेत थी जिसे बाद में हटा लिया गया था। इस मंदिर के अंदर बहुत से अद्भुत चित्र देखने मिले। उनमे से कुछ चीत्र आज के समय के बल्ब से मिलते है। theorist का मानना है कि प्राचीन काल में इजिप्त में electricity थी जो एलियंस की देन थी।


Pyramid facts in hindi, Pyramids of giza in hindi
Dendera temple bulb


Pyramids in hindi, pyramid meaning in hindi
Dendera bulb model


The great sphinx
पिरामिड के साथ बनी हुई ये एक प्राचीन बनावट है। जिसका चहेरा तो इंसानो का है लेकिन शरीर किसी जानवर का। सालो तक ये रेत के नीचे दफन था, साल 1900 में रेत हटा दी गई। इस great sphinx को सिर्फ एक ही पथ्थर में से बनाया गया था। कहा जाता है कि इसका चहेरा राजा khafre का है। इस चीज़ के अंदर दो खाली जगहे भी मौजूद हैं। समय के साथ इसमें बहोत से बदलाव आए। इस चीज़ को क्यों और किसलिए बनाया गया था ये अबतक किसी को भी पता नही है।

pyramids history in, hindi Pyramid in hindi
The great Sphinx


पिरामिड और इलेक्ट्रिसिटी
पिरामिड को बनाने जी वजह पर एक थियरी निकली है, जो की लगभग पिरामिड पर सटीक तरह से बैठती है। पिरामिड को electricity power plant के लिए बनाए गए थे, क्योंकि उससे जुडी बहुत सी चीजे और चित्र पिरामिड के अंदर मिले।

egypt pyramid in hindi, pyramid ka rahasya in hindi
Granite box in the Pyramid

pyramids facts, pyramids and mummies in hindi
Dolomite stone 


पिरामिड के अंदर ग्रेनाइट और डोलामाइट जैसी चीजें मिली है जो की ज्यादातर इलेक्ट्रिसिटी की चीजो से संबंधित है। अबतक पिरामिड के अंदर ग्रेनाइट के 20 से भी ज्यादा बॉक्स मिले है जिनका वजन 1 लाख किलो से भी ज्यादा भारी है। इजिप्तलोजी में इसका मानना है कि ये सिर्फ एक ताबूत है। power plant को बाहर से ऊर्जा (energy) की जरूर होती है, छायद इसीलिए इन पिरामिडो को नाइल नदी पर बनाया गया था।


Research on pyramids
पिरामिड पर रिसर्च करने के लिए क्वीन चेम्बर के अंदर एक remote control camera भेजा गया। इस सुरंग में आगे बड़े स्टोन से बंध एक दरवाजा मिला। बाद में उस स्टोन या दरवाजे को ड्रिल करके अंदर छोटा camera भेजा गया, उस camera ने एक तस्वीर ली और थोड़ी देर बाद अकारण ही खराब हो गया।

facts about pyramid, Pyramids ke bare me
Queen chamber image


इस स्टोन के दरवाजे पर कॉपर धातु के दो वायर भी थे। सरकार से उस टीम को आगे रिसर्च करने की अनुमति तो मिल गयी, लेकिन वो हो सके उतना कम नुकसान हो इसकि जिम्मेदारी दी। कैमरा की रिसर्च पूरी होने के बाद वहां की goverment ने पिरामिड को explore करने पर प्रतिबंध लगा दिया।

छायद वहां की सरकार नही चाहती की इस प्राचीन अजायबी को कोई नुकसान पहुंचे, या फिर वहां की सरकार हमसे कुछ छिपा रही हो।

धारणाए और हकीकत
साल 1880 में फ्रेंच मटीरियल वैज्ञानिक जोसेफ देवीडो विच ने कहा कि ये पथ्थर की जो पिरामिड बनाने के लिए इस्तेमाल हुए थे उनको कही बाहर से नही लाया गया था बल्कि उसे वही पर बनाया गया था। उन बड़े पत्थरो को लाना, बनाना और सही जगह पर रखना छायद नामुमकिन सा था। इन पत्थरो को बनाने के लिए क्रश, लाइम स्टोन, माटी और चुना जैसे मटीरियल का उपयोग किया गया था। बाद में इस कॉन्क्रीट को ढांचे में डालकर सुख दिया जाता था। लेकिन उस समय जोसेफ की इस बात को किसीने माना नही।

बाद में मटीरियल वैज्ञानिक माइकल बालसन ने इस थियरी पर जोर दिया और पिरामिड के पत्थरो पर लगभग 5 साल तक रिसर्च की। उन्होंने बताया कि जोसेफ की थ्योरी बिलकुल सही थी। पिरामिड के वो पथ्थर वही पर ढांचे में ही बनाए गए थे। लेकिन सिर्फ वही पथ्थर की जो पिरामिड की बहार की बाजु और ऊपर की सतह पर थे। इसके बावजूद भी इस थियरी को कई जिप्टोलॉजिस मान ने से इंकार कर रहे हैं।

अब बात करते है orion theory की। एस्ट्रोनॉमी प्रोफेसर एंटनी फरेल ने इस थ्योरी पर रिसर्च की और पता लगाया कि आज भी ओरियन बेल्ट के वो तारे 50° शिफ्टेड है और पिरामिड भी 35° मुड़े हुए है। उन्होंने आगे बताया कि जब ये पिरामिड बने थे तब भी ये परफेक्टली अलाइन नही थे। और आज जो पिरामिड और तारो के बिच 15° से 16° (50°-35°=15°) का डिफरेन्स है, वो हमें इन दोनों की इतनी अधिक दुरी होने की वजह से दिखाई नही देते है।

Orion theory, Orion belt star
Orion belt difference

कुछ खास पिरामिड के बारे में

गीजा के महान पिरामिड दुनिया के सात अजूबो में से सबसे प्राचीन अजायबी है।

पिरामिड जिस पथ्थर से बने हुए है वो आम पथ्थर से कई गुना ज्यादा मजबूत है। ये दुनिया में लगभग और कही पर भी नहीं मिलते। ये पथ्थर lime stone जैसे दीखते है लेकिन उससे थोड़े से अलग है।

पिरामिड के अंदर कई जगह पर बहुत अजीब चित्र बने हुए है, जिसमे से कुछ तो एलियंस होने की संभावनाए दिखाते है।

Pyramid facts in hindi, Pyramids of giza in hindi
Rare images in the Pyramids


माना जाता है कि पिरामिड के अंदर कोई ऊर्जा की तरंगें (energy waves) होती है जो सजीव और निर्जीव (मृत और जिंदा) दोनों चीजो पर अपना प्रभाव डालती है, जिससे वो चीजे लंबे समय तक बहेतर बनी रह सके।

गीजा के पिरामिड में तीन दरवाजे थे जिसका वजन लगभग 20 टन के आसपास था। लेकिन गजब की बात तो ये है कि इन दरवाजो को अंदर से सिर्फ एक हाथ से खोल सके  इतने सटीक तरह से फिट किए गए थे।

मॉडर्न रिसर्च यह कहती है कि पिरामिड को बनाने वाले लोग कोई गुलाम नही थे, वो अपनी मर्जी से ये काम करते थे और अपना रोजगार लेते थे। काम के वक्त जब किसी कारीगर या श्रमिक की मृत्यु हो जाती तब उन्हें सन्मान से साथ दफनाया जाता था।

पिरामिड सिर्फ इजिप्त में ही नही बल्कि साउथ अमेरिका, चीन, इटली और इंडोनेशिया जैसी बहुत जगह पर भी मिले हैं।


पिरामिड की अचंभित करने वाली ये जानकारी आपको कैसी लगी, वो जरूर बताना। मिलेंगे आगे ऐसी ही जानकारी के साथ।

तब तक के लिए अलविदा।

Leave a Comment