Dark matter in hindi

हमारा ब्रह्मांड कई रहस्यों से भरा पड़ा है और उसी में से एक है डार्क मैटर (dark matter in hindi).

डार्क मैटर ब्रह्मांड के ऐसे कण है जो ना तो हमे दिखाई देते है और ना ही हम उसे छू सकते है। लेकिन फिर भी वो हमारे ब्रह्मांड में अपना अस्तित्व बनाये हुए है।

Dark matter in hindi, डार्क मैटर क्या है

पहले तो हमे यह समझना होगा की सामान्य मेटर और डार्क मैटर में अंतर क्या है और यह कहा से शुरू हुआ।

तो चलिये जानते है कि डार्क मैटर क्या है

डार्क मैटर क्या है – what is dark matter in hindi

galaxy cluster ब्रह्मांड में बनी कई गेलेक्सि का समूह होता है। आकाशगंगा के द्रव्यमान से उतपन्न गुरुत्वाकर्षण बल इनको एकदूसरे से जोड़े रखने में मदद करता है।

जितना ज्यादा द्र्व्यमान होगा उतने ही मजबूत तरीके से यह आकाशगंगाए एकदूसरे से जुडी हुई होती है।

जैसे हमारी पृथ्वी अंतरिक्ष में घूम रही है वैसे ही ब्रह्मांड के हर खगोलीय पिंड गोल घूमते होते है।

सौरमंडल, गेलेक्सि और गेलेक्सि का समूह सब।

साल 1930 के दौरान Fritz Zwicky galaxy cluster की गति पर अभ्यास कर रहे थे।

उन्होंने देखा की जो गेलेक्सि समूह के केंद्र के नजदीक थी उनकी गति और समूह के बाहरी किनारों पर आयी हुई गेलेक्सि की गति लगभग समान थी।

यह देखकर उन्हें झटका लगा। क्योकि यह होना नामुमकिन है।

क्योकि इस आकाशगंगा के समूह में उतना द्र्व्यमान नही था कि इतना गुरुत्वाकर्षण बल (gravity) उत्पन्न कर सके की इतनी तेज घुमती आकाशगंगाओ को जोड़े रख सके।

जानिए: हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी के बारे में।

Fritz Zwicky ने देखा की बाहरी किनारों पर घूमती गेलेक्सि की गति इतनी ज्यादा थी की उसे अब तक उस समूह से बहार फैक जाना चाहिये था। पर ऐसा नही हो रहा था।

इसके दो ही अर्थ थे, या तो न्यूटन का नियम गलत है या कोई अद्रश्य पदार्थ है जो इतना गुरुत्वबल उतपन्न कर रहा है जो इन गेलेक्सि को बंधे हुआ है।

अब न्यूटन का नियम तो गलत हो नही सकता, क्योकि इसका उपयोग करके ही हमने ब्रह्मांड के कई खगोलीय पिंडो की गति विधि पहचानी थी। खास करके युरेनस ग्रह की।

तो एक यही विकल्प था कि कोई अद्रश्य पदार्थ है जिससे हम अंजान थे।

पर इस पदार्थ के बारे में हमे कुछ पता नही था, इसी वजह से इसे डार्क मैटर (dark matter in hindi) नाम दिया गया।

इसके बाद साल 1970 के आसपास Vera Rubin खगोल शास्त्री ने भी यह अभ्यास सिर्फ एक गेलेक्सि पर क़िया।

पर परिणाम वही मिला। उस गेलेक्सि की गति के मुताबिक हमे जितना द्र्व्यमान दिख रहा था उससे कही ज्यादा होना चाहिए था।

अगर सिर्फ जितना दिख रहा है उतना ही द्र्व्यमान(mass) होता तो उससे उतपन्न गुरुत्वबल इस गेलेक्सि में रहे तारो को नही संभाल पाते और कब के वो गेलेक्सि से निकल गए होते।

इस खोज के बाद इसके अस्तित्व को माना गया।

यह तो डार्क मैटर का इतिहास था। अब समय है यह जानने का का की असल में डार्क मैटर क्या है। (what is dark matter in hindi)

Dark matter in hindi- डार्क मैटर क्या है

डार्क मैटर के बारे में जानने के लिए पहले आप यह समजिए की यह क्यों अलग है।

आप अपने आसपास देखिये। आपको क्या दिख रहा है।

जो भी देख रहे है वो सारी चीजें छोटे छोटे अणु से मिलकर बनी है। और यह अणु इलेक्ट्रान, प्रोटोन और न्यूट्रोन से मिलकर बने हुई होते है।

लेकिन डार्क मैटर किस से बने होते है वो हमें अभी तक पता नही चला है क्योंकि हम उसे देख ही नही सकते।।

साथ ही यह डार्क मैटर के कण प्रकाश के साथ किसी भी तरह की प्रक्रिया नही करते। ना प्रकाश को शोखते है और ना ही उत्सर्जन करते है।

यहाँ तक की अगर प्रकाश(light) या दूसरे प्रकाशीय तरंग इसके बीच से निकल जाते है तब भी कुछ नही होता।

तो फिर इसका पता कैसे लगाये की डार्क मैटर (dark matter) कहा पर है।

इसका जवाब है गुरुत्वाकर्षण बल।

डार्क मैटर कैसे ढूंढे – find dark matter in hindi

चार मुलभुत बलो में सबसे कमजोर गुरुत्वाकर्षण बल है, लेकिन जब किसी ऐसी चीज को ढूंढने की बात आती है जिसे हम नही देख सकते या जो हमारी क्षमता से बहार है तब मदद करता है गुरुत्वबल।

आप ब्लैक होल को ही देख लीजिए, वहाँ से प्रकाश भी वापस नही आ सकता, इसी वजह से हम कभी उसे नही देख सकते।

लेकिन इसके द्रारा उत्त्पन गुरुत्वबल हमे बताता है कि ब्लैक होल कहा पर है।

कुछ इसी तरह का ही डार्क मैटर के साथ भी है।

जब प्रकाश इसके नजदीक से पसार होता है तब उसके द्र्व्यमान की वजह से उतपन्न ग्रेविटी उस प्रकाश को अपनी तरफ खिंचती है।

इनसे प्रकाश मुड़ जाता है। वैज्ञानिक ग्रेविटेशन लेंस की पद्धति का उपयोग करके यह देखते है कि इस प्रकाश का मूल स्रोत क्या था और वही से आते वक्त यह प्रकाश कहा मुड़ा है।

ऐसी जगह जहा प्रकाश bend हुआ हो लेकिन कोई खगोलीय वस्तु ना दिख रही हो तब पता चल जाता है कि इस जगह पर डार्क मैटर (dark matter in hindi) मौजूद है।

एक दूसरा रास्ता डार्क मैटर को ढूंढने का है Fermi Gamma-Ray Space Telescope.

नाम से ही पता चल रहा है कि यह टेलिस्कोप अंतरिक्ष से आने वाले gamma ray को पकड़ता है। जो की सबसे शक्तिशाली प्रकाशीय तरंगे होती है।

जब डार्क मैटर के दो कण आपस में टकराते है तब माना जाता है कि उसमे से यही तरंगे उत्तपन्न होती है। इस टेलिस्कोप का उपयोग करके उन तरंगों के उदगम स्थान का पता लगा सकते है।

पर यह अभी संभव नही है क्योंकि fermi telescope कई समय से अंतरिक्ष में था ही नही, जिससे वैज्ञानिको के पास डार्क मैटर को समझने के लिए पूरा data ही नही है।

About Dark matter in hindi – डार्क मैटर के बारे में

डार्क मैटर को लेकर कई अवधारणाएं है। जैसे की वो ब्लैक होल है या सफेद बौने तारे है।

लेकिन इन चीजो को हम आसानी से खोज सकते है और अभ्यास भी कर सकते है। यहा तक ही हम इनके कुछ गुणधर्मो के बारे में भी जानते है।

लेकिन जिस जगह पर डार्क मैटर उपलब्ध होता है वहाँ इस तरह के कोई संकेत नही मिलते जो बताते हो की डार्क मैटर इनमे से कुछ है।

डार्क मैटर एंटीमैटर भी नही है। क्योंकि जब एंटीमैटर सामान्य कण के साथ मिलते है तब आपस में टकराकर एक रेडियेशन को छोड़ते है।

जानिए: एंटीमैटर की 7 रहस्यमय बाते

कुछ वैज्ञानिको के मुताबिक डार्क मैटर WIMP (weakly interacting massive particles) बने हुई होते है। यह कण प्रोटोन से 10-100 गुना ज्यादा भारी होते है।

यह कण सामान्य मैटर के साथ बहोत ही कमजोर स्तर पर प्रतिक्रिया करते है। जिसे detect करना बेहत कठिन होता है। लेकिन अभी के समय यह wimp कण एक कल्पना ही है। हमे अभी तक यह कभी देखने को नही मिले है।

Facts about dark matter in hindi – डार्क मैटर के बारे में तथ्य

पीटर वन डोककुम नामके व्यक्ति ने dragonfly 44 नामक आकाशगंगा की खोज की है जो सिर्फ डार्क मैटर से ही बनी है।

ब्रह्मांड में कुछ ऐसी गेलेक्सि भी है जिसमे डार्क मैटर नही होता। इस तरह की आकाशगंगाओ को Ultra Defuse Galaxy कहा जाता है। और इनमे से एक है गैलेक्सी NGC 1052-DF2. हा, जानता हूं थोड़ा सा अजीब नाम है।

क्या आप जानते है हमारी आकाशगंगा में dark matter 10 गुना ज्यादा है बजाय आम
मेटर के।

जहा सामान्य मेटर 4% ही हमारे ब्रह्मांड में है वहा डार्क मैटर 26% है। बाक़ी का 69% डार्क एनर्जी है। जो इस डार्क मैटर से भी ज्यादा रहस्यमय है।

तो बस यह थी जानकारी डार्क मैटर के बार में (dark matter in hindi).

अगर अभी भी dark matter से सबंधित कोई सवाल है तो कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। या फिर आप डार्क एनर्जी के बारे में भी पढ़ सकते है।

पढ़िए: डार्क एनर्जी का रहस्य

 

Leave a Comment

Share via
Copy link