Wow signal एक रहस्यमय सिग्नल

हमारे ब्रह्मांड में इतने प्लेनेट है कि ऐसा लगता है कि कही पर तो एलियन लाइफ होगी ही होगी। इसी तरह की घटना हुई थी कुछ साल पहले। तो आ जाइए वो एलियन सिग्नल को जानने।

Signal की खोज
कुछ समय पहले लगभग साल 15 अगस्त 1977 को  एलियन सिग्नल की घटना बनी। हुआ ये था कि observatory of Ohio state university के एक big ear radio telescope ने एक सिग्नल को डिटेक्ट किया था। उस समय dr. Jerry ahman कुछ space पर research कर रहे थे तभी उन्हें ये सिग्नल मिला। ये सीग्नल पुरे 72 सेकंड का था। इस सिग्नल को डिकोड करने की जिम्मेदारी dr. jerry rehman ने ली थी।

Wow signal facts in hindi
Wow signal in hindi

Decode the signal
इस सिग्नल को डिकोड करते वक्त dr. Jerry ने कुछ ऐसा देखा जिससे वो बहोत ही प्रभावित हुए और साइड में wow लिख दिया। तब जाके इसका नाम wow signal पड़ा। अब जानते है कि dr. Jerry ने क्या देखा था। उन्होंने एक नोट किया जो था 6EQUJ5. सिग्नल हमेशा आंकड़े और अल्फाबेट के  कुछ पेटर्न में होते है। जिसमे U का अर्थ होता है कि सबसे शक्तिशाली सिग्नल। इस नोट में भी एक U था। जो बताता था कि सिग्नल काफी स्ट्रांग था। ये कोई आम सिग्नल से लगभग 30 गुना ज्यादा शक्तिशाली था।

Wow signal hindi me
Decoded the wow signal

ये सिग्नल Sagittarius constellation की तरफ से आया था। जो हमारी पृथ्वी से काफी लाइट यर दूर है। जिस जगह से ये सिग्नल आया था वहां पर काफी बार स्कैन किया गया लेकिन कुछ नही मिला। ये सिग्नल सिर्फ एक बार ही मिला। चोकाने वाली बात तो ये थी की जहाँ से ये सिग्नल आया था वह पर कुछ था ही नही।

धूमकेतु और सिग्नल
Center of planetary science के कुछ शंसोधको ने इसे सॉल्व करने की कोशिश की। उनके अनुसार ये किसी धूमकेतु से आया होगा जिसकी फ्रीक्वेंसी 1420 Mhz थी। उनका कहना है कि ये दुबारा ना मिलने की वजह थी धुमकेतु के तेज गति का सफर। संशोधक antonio ने कहा की जिस समय वो सिग्नल आया तब वहां पर एक धूमकेतु मौजूद था। इस सिग्नल का अंत तब आया जब nov 2016- feb 2017 में फिर से वो धूमकेतु सामने आया। तो संशोधकों के अनुसार  ऐसा कुछ ही हुआ होगा लेकिन ये एक बड़ी संभावना है एसा होने की।

आपको क्या लगता है, comment में ज़रूर बताना।

तब तक के लिए अलविदा।

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap