Voynich manuscript एक रहस्यमय किताब

दोस्तों, आज हम बात करेंगे एक ऐसी किताब के बारे में जो अबतक रहस्य बनी हुई है।

Voynich manuscript को दुनिया की सबसे रहस्यमय किताबो में से एक माना जाता है। इस में लिखी भाषा को अबतक कोई समज नही पाया है।

किताब का इतिहास

अब सबसे पहले बात करते है इस किताब के इतिहास की। कार्बन डेटिंग से पता चला पाया है कि किताब को 1404-1438 में लिखा गया था। यानी की ये किताब 600 साल पुरानी है। इस बुक के बारे में जांच करने पर ये पता चला कि इस किताब को इटली के एक book diller ने 1912 मे खरीदा था। उसका नाम willfrid voynich था। बाद में उसने इस किताब को एक library में दे दी और उसके नाम पर से इस किताब को voynich manuscript नाम दे दिया गया।

Voynich manuscript book pdf in hindi
Realm image of voynich manuscript

किताब के अंदर।
किताब में 240 पेज है लेकिन पहले इस किताब में और भी पेज थे पर वो समय के साथ नष्ट हो गए। किताब के बारे में सबसे चोकाने वाली बात ये थी की किताब के अंदर लेखक नाम ही नही दिया गया था। किताब को मुख्यरूप से दो भागों में देखा जा सकता है। पहला चित्र और दूसरी लिखावट।

पहले बात करते है इनमे दिए हुए चित्रो के बारे में। किताब में बहुत से पेड़ पौधों के चित्र बने हुए है, जिनमे से कई ऐसे पेड़ पौधों के चित्र है जो धरती पर कभी पाए ना गए। इसमें नक्षत्र और ब्रह्मांड के भी कुछ चित्र दिए गए है। इसमें कुछ इंसानो के भी चित्र है जिसमे औरते नहा रही हो।  किताब के अंदर के कुछ चित्र तो समझ में आते है लेकिन ज्यादातर चित्र किसी रहस्य की तरह है।

अब बात करते है उसके लिखावट की।  इसके अंदर जो लिपि लिखी गई है उसे अब तक समजा नही जा सका है। लिपि को डिकोड करने के लिए बहुत से प्रोफेशनल क्रिप्टोग्राफर्स और ब्रिटिश कोड ब्रेकर्स ने कोशिश की लेकिन समज नही पाए। किताब के अंदर 1000000 ग्राफिक डिटेल्स और 170000 कैरेक्टर है। इनमे से बस इतना पता चल सका है कि कुछ शब्द जर्मन और लैटिन भाषा में है।


अब जानते है थोड़ा बुक के बारे में।

voynich manuscript में कुल मिलाकर 6 भागो में बताया गया है।
1. खगोल (Astronomy)
2. ब्रह्मांड विज्ञान (Cosmology)
3. हर्बल ज्ञान (Herble knowledge)
4. दवाएँ (Medicine)
5. जिव विज्ञान (Biology)
6. व्यंजनों (Recipies)
बताए गए ये सभी भागों का सिर्फ अनुमान लगाया गया है।

किताब के बारे में कुछ खास।

किताब के बारे में एक और बात जान लो। किताब के अंदर एक लिखा हुआ खत मिला था, जो लिखा गया था Johannes marcus marci. marci एक scientist थे जिन्हें लगभग सभी भाषाए ज्ञात थी। उन्होंने खत में Roger bacon के बारे में बताया है। Roger bacon 13 सदी के थे और वो चर्च से वास्ता रखते थे, फिर भी उन्हें science में रस था। उस समय उन्होंने light reflect जैसी घटनाओं को जाना था और एक बेसिक माइक्रोस्कोप जैसी रचना बनाई थी।

इस किताब को अबतक तो कोई पढ़ नही पाया है लेकिन छायद भविष्य में कर सकेगा। आपको ये जानकारी कैसी लगी वो जरूर बताना। तो मिलते है आगे।

तब तक के लिए अलविदा।

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap