Teleportation टेलेपोर्टेशन

हम एक जगह से दूसरी जगह गायब होकर जा सके तो कैसा लगेगा? सुनने में कितना अच्छा लग रहा है है ना! मान लिजिये की आप जिस जगह पर है वहाँ से एक ही पल में थोड़े दूर पहोच जाए। पहले तो आपको लगेगा कि ऐसा होना नामुमकिन है। पर जरा सोचो ऐसा हो तो? ये बिलकुल possible है टेलेपोर्टेशन के द्रारा।

अब आपको लग रहा होगा की ये teleportation क्या है? तो उसके लिए एक बात को समजो। अभी आप अपने घर में हो और आपको अपने मित्र के घर जाना है तो आप दो तरह से जा सकते हो। पहला है कि आप सफर करके जाएंगे यानी की बस  बाइक या फिर चलके, जो हम आम तौर पर करते हैं। दूसरा रास्ता है teleportation. टेलेपोर्टेशन में हम जगह से दूसरी जगह एक ही सेकंड में पहोंच सकते है।

अब बात यह है कि टेलेपोर्टेशन है क्या और उसमें में होता क्या है, वो काम कैसे करता है? तो एक बात जान लीजिए की teleportation एक क़वोंन्टम physics की ही एक घटना है। जिस पर scientist अभ्यास कर रहे है और अब तक बहुत कुछ जान लिया है। तो चलिए जानते है कुछ टेलेपोर्टेशन के बारे में।

Teleportation process
Teleportation एक ऐसी घटना है जिसमे कोई एक ऑब्जेक्ट के खरबो भाग करके उसे अणु में बदलते है। अब इस अणुओं को तरंग में परिवर्तित किया जाता है। किसी चीज को जब खरबो परमाणु में परिवर्तित किया जाता है तो उस पक्रिया को demetalize कहते है। ये परमाणु की जो तरंग में परिवर्तित हुए हैं उसे अब ट्रावेल कराते हैं। ये वही प्रकार के तरंग होते हे जो हम सेटेलाइट के द्रारा हमारे फोन पर सिग्नल लेते हैं, जिस तरह सूर्य के प्रकाश की किरणें यानी की वो लाइट वेव, जिस तरह इन्टरनेट के डाटा रेडियो waves के जरिए आते है। कुछ इस तरह जो परमाणु होते है उसे डेटा की तरह waves के फॉर्म में बदलते है। अब इस waves को ट्रावेल कराते हैं। इस सफर में ये waves प्रकाश की गति से ट्रावेल करते हैं यानी की एक सेकंड में तीन लाख किलोमीटर जितना अंतर। अब इस डेटा वेव्स को दूसरी जगह यानी की जिस जगह पर पहुचाना था वहाँ इसे rematalize करते हैं। remetalize यानी की जो सिग्नल वेव्स में आए थे उसे फिर से तरंग में से परमाणु बनाने की प्रक्रिया। इस तरह हम एक क्षण में ही एक जगह से गायब हो कर दूसरी जगह पर जा सकते है।

यही पर हमने जान तो लिया की किस तरह किसी चीज को teleport कर सकते है। पर उसमे कुछ प्रश्न भी खड़े होते है जैसे कि, क्या जिस चीज को परमाणु में परिवर्तित करने के बाद प्रकाश के तरंग form में सफर कराने के बाद जब हम उसे फिर से परमाणु में परिवर्तित करते है तो क्या वह पहले था वैसा ही रहेगा? इसका जवाब है ना। अभी के समय की बात करे तो हमारे पास ऐसी टेक्नोलॉजी नही है पर भविष्य में ऐसा कर पाने की संभावना बहुत है।

Photon teleport
कुछ समय पहले लगभग 2012 में ऑस्ट्रेलिया के scientists ने फोटोन को we टेलिपोर्ट करने में रिकॉर्ड बनाया हुआ है। उन्होंने एक फोटोन को 143 km दूर टेलिपोर्ट किया था। यहाँ पर देखा जाए तो  फोटोन एक प्रकाश का ही प्रकार है या कह सकते है कि उसका ही कण है जो तरंग के रूप में ही होता है। परंतु अगर बात की जाए किसी इंसान की तो एक इंसान में खरबो परमाणु होते है और  उस परमाणु को पूरी तरह से teleport करने में जो समय लगेगा वो हमारे ब्रह्मांड के समय से 350 गुना ज्यादा होगा। ऐसा कह सकते की अभी तो किसी इंसान का teleport होना संभव नहीं है लेकिन मैंने आगे जैसा कहा उसी तरह भविष्य में हम ऐसा करने के लिए  सक्षम हो सकते हैं।

Teleportation power in hindi
Photon teleport

Englament effect
इस teleport की प्रक्रिया में एक englament नामकी एक घटना बहुत हिस्सा बनती है। ये englament  भी quantum physics ही है। इस थियरी के अनुसार ब्रह्मांड के सारे परमाणु एकदूसरे से connected होते है और एक परमाणु में कुछ बदलाव करने से दूसरे परमाणु में भी बदलाव आता है फिर भले दोनों परमाणु एक दूसरे से काफी दूर हो। इस englament की घटना को और ठीक से समझने की कोशीश करते हैं। मान लीजिए की दो अणु एकदूसरे के पास आते है। जब ये दोनों एकदूसरे के नजदीक आएंगे तो दोनों के बीच एक कनेक्शन हो जाएगा। अब इन दोनों अणु को दूर करते है फिर भी दोनों के बीच वो कनेक्शन रहेगा। अब कोई एक अणु पर किसी प्रकार का बदलाव करेंगे तो वैसा ही बदलाव दूसरे अणु में भी दिखेगा। फिर भले ही दोनों परमाणु ब्रह्मांड के विरुद्ध कोने पर हो।

शरूआत में scientists का ऐसा मान ना था कि इन दोनों परमाणु के बीच किसी प्रकार के data की आप-ले होती होगी। जो की ये धारणा आगे जाके सच भी साबित हुई। पर एक बात याद रखिए कि यहां पर जो डेटा और खास करके प्रकाश के तरंग की बात होती है तो वो एक अलग ही लेवल की होती है। teleport कोई एक सामान्य घटना नही है। हम ऐसा जरूर कह सकते है कि teleport की घटना होना ये एक गजब का अनुभव होगा।

ये थी teleport और teleportation के बारे में कुछ जानकारी। इसी तरह की जानकारी के साथ मिलेंगे आगे।

तब तक के लिए अलविदा।

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap